राणा के गुर्गे उगल रहे संदिग्ध पुलिस सहित नेताओं के नाम

नीमच।जैसा किसभी जानते है कुख्यात तस्कर कमल राणा लंबे अर्से से जीरन के कई इलाकों में अवैध गतिविधियों को अंजाम दे रहा है। सिंडिकेट बनाकर बड़ी तादाद में अफीम व डोड़ाचूरा की तस्‍करी कर रहा है। जीरन में खुलेआम अवैध मादक पदार्थ की खरीद-फरोख्‍त हो रही है। कई बार तस्करी के मामले दबाए गए। इसलिए माना जाता है कि जीरन क्षेत्र कमल राणा का सबसे सुरक्षित ठिकाना हैं। ऐसे में सावल उठ रहे कि आख़िरकार जीरन क्षेत्र में राणा व उसके गुर्गों की मदद आखीर कौन कर रहा हैं?
पिछले दिनों एक सूचना तेजी से फैलती। बताया गया कि कमल राणा व उसके 4 साथियों को राजस्थान की जयपुर क्राइम ब्रांच ने शिर्डी से गिरफ्तार कर लिया। जैसे ही इस तरह की खबरें प्रकाशित हुई, वैसे ही राणा के गुर्गे भूमिगत हो गए। राजस्थान पुलिस ने जब कमल राणा पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया तो उसने तोते की तरह अपने सभी गुर्गों ने नाम रट दिए। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने कमल राणा के सीधे संपर्क में रहने वाले 20 से ज्यादा लोगों को विभिन्न धाराओं में सहआरोपी बना दिया। साथ ही उनकी तलाश शुरु कर दी और आखिरकार 29 जून को राजस्थान पुलिस की तलाश खत्म हो गई। 5 दिन पहले ही राजस्थान पुलिस सुबह करीब 4 बजे 22 गुर्गो में से 4 को उनके घर से उठा लिया। भारतसिंह पिता गोविंदसिंह आंकली, हस्तीमल पिता रमेशचंद्र सुथार, तूफान पिता भवानीसिंह सोंधिया तथा संदीप पिता शिवनारायण पाटीदार को राजस्थान पुलिस अपने साथ ले गई। इन 4 आरोपियों ने थर्ड डिग्री के बाद करीब 15 से ज्यादा लोगों के नाम बताए है। इन 15 लोगों में पुलिसकर्मी, संदिग्ध मीडियाकर्मी सहित क्षेत्रीय दिग्गज नेताओं के नाम शामिल है। जिनकी सांठगांठ से अवैध मादक पदार्थ का पूरा सिंडिकेट चल रहा था। अब राजस्थान पुलिस हस्तीमल, भरत, तूफान तथा संदीप के बताए लोगों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर चुकी है।

*ये कमल राणा के सहयोगी-*
1. जीरन के आंकली निवासी भरतसिंह पिता गोविंदसिंह।
2. जीरन निवासी हस्तीमल पिता रमेशचंद्र सूथार।
3. राजस्थान जोधपुर का राहुल।
4. मंदसौर- नाहरगढ़ का तूफान पिता भवानीसिंह।
5. पंजाब के संगरूर का मनू उर्फ मोनू पंजाबी।
6. राजस्थान-पाली के बेड़ा का तेजू देवासी।
7. जीरन बोरदियाकलां का मोहनसिंह उर्फ लाला।
8. राजस्थान बाड़मेर के बालोतरा का दिनेश विश्‍नोई।
9. नीमच के आंत्री का सोनू।
10. जीरन- रायनखेड़ा का विरेंद्रसिंह पिता हरिसिंह जाट।
11. जीरन के छाछखेडी का केसरीमल कुमावत।
12. जीरन-हर्कियाखाल का जीतू उर्फ जितेंद्रसिंह राजपूत।
13. जीरन-बोरदियाकलां का राजू उर्फ राजेंद्रसिंह।
14. राजस्थान-बाड़मेर का काकू।
15. जीरन-हरकियाखाल का हुसैन पिता नाहर खान।
16. राजस्थान-जोधपुर का हनुमान उर्फ भागी मोटा।
17. राजस्थान-बाड़मेर का हनू जाट।
18. जीरन का भरत पाटीदार उर्फ टोपी।
19. जीरन-गमेरपुरा का सुनिल पिता कारु मीणा।
20. छोटीसादड़ी-अचलपुरा का विजय उर्फ विज्‍जू पिता चेनराम आंजना।
21. राजस्थान-बाड़मेर का विशनाराम पिता मदराम।
22. जोधपुर-फिंच का कालू उर्फ दिनेश विश्नोई कमल राणा के सहयोगी है।

*ये रडार पर-*
कमल राणा के बयान के आधार पर पुलिस ने कुल 22 लोगों को आरोपी बनाया है। इसी मामले में विगत 5 दिन पहले 4 लोगों को हिरासत में लिया। जिनसे पूछताछ जारी है। इन 4 लोगों ने 15 से ज्यादा नामों का उल्लेख पुलिस के सामने किया है। इनमें जीरन तथा नीमच के कुछ पुलिसकर्मी शामिल है। इसके अलावा राणा के गुर्गों से मासिक रुपए लेने वाले नीमच के कुछ संदिग्ध मीडियाकर्मी शामिल है। यही नहीं पूछताछ में आरोपी हस्तीमल सूथार ने कुछ प्रभावशाली नेताओं का जिक्र भी किया है।

*जल्द होगी पूछताछ-*
पुलिस के सूत्र बताते है कि जल्द ही राजस्‍थान क्राइम ब्रांच जीरन तथा नीमच के चुनिंदा पुलिसकर्मियों सहित मीडियाकर्मियों के अलावा भाजपा दल के नेताओं से पूछताछ करेगी।

Rajesh Danger


Posted

in

by

Tags: