Breaking तकनीकी

WhatsApp पर भारतीय ग्रुप्स भी फैला रहे हैं चाइल्ड पॉर्नोग्राफी

WhatsApp पर न सिर्फ फेक न्यूज और अफवाहें तेजी से फैलाई जा रही हैं, बल्कि चाइल्ड पॉर्नोग्राफी भी एक बड़ी समस्या बन कर उभर रही है. अभी हाल ही में इजराइली ऑनलाइन सेफ्टी स्टार्टअप AntiToxin ने खुलासा किया है कि दुनिया भर में वॉट्सऐप पर सैकड़ों चाइल्ड पॉर्नोग्राफी से जुड़े ग्रुप हैं. इन ग्रुप्स में धड़ल्ले से चाइल्ड पॉर्नोग्राफी शेयर की जा रही है. चौंकाने वाली बात ये है कि इन ग्रुप्स का नाम भी चाइल्ड पॉर्नोग्राफी से जुड़ा होता है और यहां खुले तौर पर खरीद-फरोख्त होती है.

चाइल्ड पॉर्नोग्राफी से जुड़े वॉट्सऐप ग्रुप्स भारत में ऐक्टिव हैं. आपको बता दें कि ये अवैध है इसका उल्लंघन करने पर कड़ी सजा और जुर्माना दोनों हो सकता है. ET की एक रिपोर्ट के मुताबिक इजराइल की ऑनलाइन सेफ्टी स्टार्टअप एंटी टॉक्सिन के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर ने कहा है, ‘हमने यह भी पाया है कि भारतीय यूजर्स और ग्रुप्स भी चाइल्ड पॉर्नोग्राफी शेयर कर रहे हैं. मेरे पास वो खास नंबर नहीं है, लेकिन वॉट्सऐप ग्रुप अच्छी खासी संख्या में +91 नंबर्स हैं जो भारत का कोड है’

दी न्यूज मिनट की एक रिपोर्ट में दी साइबर ब्लॉग प्रोजेक्ट के मैनेजर के हवाले से बताया गया है कि भारत में ऐसे कई ग्रुप्स हैं  उन्होंने Unlimited Whats Group नाम का ऐप डाउनलोड किया और इसे चेक किया. उन्होंने पाया कि यहां सिर्फ Child लिखने से सजेस्टिव फ्रेज के तौर पर चाइल्ड पॉर्नोग्राफी से जुड़े ग्रुप्स दिखे.

उन्होंने कहा है कि इन ग्रुप्स में से ज्यादातर भरे हुए हैं और इनमें कोई एक्स्ट्रा ऐड नहीं किया जा सकता है. इन ग्रुप्स में साफ तौर पर लिखा है कि वो किस लिए हैं और उनका मकसद क्या है. प्रोफाइल फोटो, नाम और इंट्रो हर जगह चाइल्ड पॉर्नोग्राफी के बारे में लिखा है.

रिपोर्ट के मुताबिक इन ग्रुप्स में से कई के ऐडमिन का नंबर अमेरिका का है, जबकि इनकी डीटेल्स हिंदी में लिखी है और इन ग्रुप्स के ज्यादातर मेंबर्स भारतीय ही हैं.

वॉट्सऐप ने कई बार ये दावा किया है कि कंपनी इस तरह के अवैध ग्रुप को मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए हटाने का काम करती है. लेकिन अगर इस रिपोर्ट में सच्चाई है तो यह वॉट्सऐप के लिए अलार्मिंग है.

Skip to toolbar